भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब सूना पहर / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:32, 21 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=कविता भट्ट |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem>...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छाया पतझड़ कुछ इस कदर था,
गुमाँ था; मगर मैं माली न बन सकी।
ख्वाबों से दूर सितारों का शहर था,
रोयी बहुत मगर रुदाली न बन सकी।

जीवन अमावस का ही मंजर था,
यह सूनी रात दिवाली न बन सकी।
समय के हाथ फूल, बगल में खंजर था,
जो पेट भर दे मैं वह थाली न बन सकी।

बहुत रोका मगर मौत ही उसका सफर था,
ज़हर थी, मैं अमृत की प्याली न बन सकी।
शिकायतें खत्म हुई सब- अब सूना पहर था,
प्रेम शेष; मैं यौवन की लाली न बन सकी।