भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभियान / श्याम किशोर

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:46, 28 मई 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=श्याम किशोर |संग्रह=कोई ख़तरा नहीं है / श्याम कि...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैदान साफ़ है
आगे बढ़ो
उसने आख़िरी तिनका
तोड़ते हुए कहा ।

मैदान कभी साफ़ नहीं होता
अगर वह मैदान है
मैंने उस कोने की ओर
इशारा करते हुए कहा
जहाँ नए सिरे से
घास जमना शुरू हो गई थी

और फिर से
मैदान साफ़ करने में जुट गया ।