भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अभिलाषाओं के दिवास्वप्न / अंकित काव्यांश" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अंकित काव्यांश |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 10: पंक्ति 10:
 
अभिलाषाओं के  
 
अभिलाषाओं के  
 
दिवास्वप्न पलकों पर बोझ हुए जाते
 
दिवास्वप्न पलकों पर बोझ हुए जाते
फिर भी जीवन के चौसर पर साँसों की बाजी जारी है।
+
फिर भी जीवन के चौसर पर साँसों की बाज़ी जारी है।
  
 
हारा जीता  
 
हारा जीता  
पंक्ति 22: पंक्ति 22:
  
 
जो कुछ  
 
जो कुछ  
लिख गया कुंडली में वह टाले कभी नही टलता।
+
लिख गया कुंडली में वह टाले कभी नहीं टलता।
 
जलता है  
 
जलता है  
अहंकार सबका सोने का नगर नही जलता।
+
अहंकार सबका सोने का नगर नहीं जलता।
  
 
हम रोज  
 
हम रोज  

23:16, 2 अगस्त 2020 के समय का अवतरण

अभिलाषाओं के
दिवास्वप्न पलकों पर बोझ हुए जाते
फिर भी जीवन के चौसर पर साँसों की बाज़ी जारी है।

हारा जीता
जीता हारा मन सम्मोहन का अनुयायी।
हालाँकि लगा
यह बार बार सब कुछ पानी में परछाई।

हर व्यक्ति
डूबता जाता है परछाई को छूते छूते
फिर भी काया नौका हमने भँवरों के बीच उतारी है।

जो कुछ
लिख गया कुंडली में वह टाले कभी नहीं टलता।
जलता है
अहंकार सबका सोने का नगर नहीं जलता।

हम रोज
जीतते हैं कलिंग हम रोज बुद्ध हो जाते हैं
फिर भी इच्छाओं की गठरी अन्तर्ध्वनियों पर भारी है।