भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभी हम खोल के दर आ रहे हैं / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:38, 27 जनवरी 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem>अभी हम ख...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी हम खोल के दर आ रहे हैं
नज़र यादों के मंजर आ रहे हैं

कहानी में कई ग़द्दार चेहरे
वफ़ादारी पहन कर आ रहे हैं

उठो माज़ी की खिड़की बन्द कर दो
पुराने ग़म पलट कर आ रहे हैं

अभी माहोल में इंसानियत है
अभी छत पे कबूतर आ रहे हैं

रखा था दोस्तों को आस्तीं में
निकल के सांप बाहर आ रहे हैं