भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमावस का चांद / अवतार एनगिल

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:26, 1 अप्रैल 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस चाँदनी रात में
काले आसमान पर
चाँद लटक रहा है
लपलपाती कटार सा....
निर्दोष नागरिक की तरफ
दाग़ दिय्ए गये हथगोले सात

दूर
अँचल में
भूंकता है
कोई एक कुत्ता
और फिर पूरी घाटी
कुत्तों की भूंक से डर जाती है।