भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरहो बन के खरही कटैहो बाबा / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:40, 28 अप्रैल 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKCatAngikaRachna}} <poem> इस गीत में कन...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

इस गीत में कन्या को सुपात्र के हाथ सौंपने पर पिता के निश्ंिचत होने और माता-पिता के वियोग से बेटी की आँखों से मोती की तरह आँसू ढुलकने का वर्णन हुआ है।

अरहो[1] बन के खरही[2] कटैहो[3] बाबा, बिरदाबन[4] बिट बाँस[5] हे।
ऊँची कै मड़बा छरैहऽ[6] हो बाबा ऐतै[7] सजन बरियात हे॥1॥
थरिया में काँपे दूबि रे अछतिया, मड़बा काँपे दूबि धान हे।
धिआ ले काँपे बाबा अप्पन बाबा, आबे[8] धिआ परली सजन हाथ हे।
आबे सुतिहऽ[9] निचिंत हे॥2॥
जँघियाँहिं काँपे बेटी दुलारी बेटी, मोती जोगे[10] ढरै नयना लोर हे॥3॥

शब्दार्थ
  1. घना जंगल; अरण्य
  2. खर; एक प्रकार की घास
  3. कटवाना
  4. वृंदावन
  5. बाँस के पौधों का समूह
  6. छाजन दिलवाना
  7. आयेंगे
  8. अब
  9. सोना
  10. योग्य