Last modified on 28 जुलाई 2015, at 17:43

अरी ए लाड़ो अब ना जइहों / मगही

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अरी ए लाड़ो[1] अब ना जइहों, तेरा टीका[2] अजब अनमोल।
माँगे लाड़ो के टीका सोभे, मोतिया लागे हीरे लाल।
ए गोरी अब ना जइहों, तेरा टीका अजब अनमोल॥1॥
नाके लाड़ो के बेसर[3] सोभे, चुनिया[4] लागे हीरे लाल,
चुनिया अजब बहार।
ए लाड़ो अब ना जइहों, तेरा टीका बड़ा अनमोल॥2॥
काने[5] लाड़ो के बाली[6] सोभे, झुमका लागे हीरे लाल।
झुमका अजब बहार।
ए लाड़ो अब ना जइहों, तेरा टीका गजब अनमोल॥3॥
गले लाड़ो के माला सोभे, सिकड़ी लागे हीरे लाल।
सिकड़ी अजब बहार।
एक लाड़ो अब ना जइहों, तेरा टीका अजब अनमोल॥4॥
जाने लाड़ो के सूहा[7] सोभे, छापा[8] अजब बहार।
घूँघट लगे हीरे लाल, घूँघट अजब बहार॥5॥
ए लाड़ो अब ना जइहों, तेरी सूरत अजब अनमोल।
एक लाड़ो अब ना जइहों, तेरी अँखिया बड़ी अनमोल॥6॥

शब्दार्थ
  1. लाड़ली दुलहन
  2. मँगटीका, एक आभूषण विशेष
  3. नाक का एक आभूषण
  4. नग
  5. कान में
  6. कान का एक गोलाकार आभूषण
  7. विशेष प्रकार की छापे वाली लाल रंग की साड़ी
  8. छाप, छपाई