भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

अरे फिरकनी घूम रही है / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:57, 7 अक्टूबर 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रकाश मनु |अनुवादक= |संग्रह=चुनम...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरे, फिरकनी घूम रही है,
ला-ला, ला-ला, ला-ला-हा!
गोल-गोल जी, गोलमगोल
घूम रही है अरे फिरकनी,
संग-संग धरती घूम रही है।
घूम रहे हैं चंदा-तारे,
घूम रहे सारे के सारे,
जैसे मेरी लाल फिरकनी,
गोल-गोल जी गोलमगोल,
धरती सारी गोलमटोल,
दुनिया भी है गोलमगोल!