भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अर्थ मेरा क्या? / राजेन्द्र प्रसाद सिंह

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:35, 3 सितम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राजेन्द्र प्रसाद सिंह |अनुवादक= |...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तनिक रुक जाओ,
समझ् लूँ—
अर्थ मेरा क्या?
कुछ कबीरी बंदगी में,
ग़ज़ल-ठुमरी में,
फर्श-नावों पर लहरती
मस्त झिंझरी में
सुलगते एकांत छन से
देह दुहरी में
---तनिक रम जाओ,
समझ लूँ—
अर्थ मेरा क्या?
बन्द, नीली खिड़कियों से,
अगम गलियों से,
चित्र में भी तड़फड़ाती’’’’’
दो मछलियों से,
झील में डूबी हुई- सी
थिर पुतलियों से
---तनिक जुड़ जाओ,
समझ लूँ—
अर्थ मेरा क्या?
भटकते बहुरूपिये को,
थमे मौसम को,
रोज अनखाती किरण से
तुनुक शबनम को,
समय के अनगिन तटों से
बंटे संगम को
---तनिक अपनाओ,
समझ लूँ
अर्थ मेरा क्या?