भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अलाव और लड़का / इराक्ली ककाबाद्ज़े / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सर्दियों में, जब मैं
बैठ कर अलाव के पास
चाय बना रहा होता हूँ,

लड़के की आँखें
जम रही होती हैं फुटपाथ पर ओसाका के

वे मुझे नहीं होने देतीं अकेला...

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र

लीजिए, अब इसी कविता का जार्जियाई भाषा से अँग्रेज़ी अनुवाद पढ़िए
              Irakli Kakabadze

In winter, when
I sit by the fire and prepare tea,

The eyes of the boy
lying frozen on the sidewalk in Osaka

Won’t leave me alone . . .

Translated from Georgian by Mary Childs