Last modified on 22 सितम्बर 2013, at 09:59

अवई अछि नाव नहिं भव स कदाचित ललित छी अपने / मैथिली

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अवई अछि नाव नहिं भव स कदाचित ललित छी अपने।
वैजन्ती मंगला काली शिवासिनी नाम अछि अपने।
हमर दुख कियो नहि बुझय कहब हम जाय ककरा स
कृपा करू आजु हे जननी बेकल भय आवि बैसल छी।


यह गीत श्रीमती रीता मिश्र की डायरी से