भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अवगुन बहुत करे / बुन्देली

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:27, 23 जनवरी 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=बुन्देल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अवगुन बहुत करे,
गुरुजी मैंने अवगुन बहुत करे।
जब से पांव धरे धरनी पे,
लाखन जीवन मरे। गुरुजी...
जब से कलम धरी कागज पे,
दस के बीस करे। गुरुजी...
गैल चलत मैंने तिरिया निरखी,
मनसा पाप करे। गुरुजी...
पाप पुण्य की बांधी गठरिया,
सिर पे बोझ धरे। गुरुजी...