Last modified on 27 जुलाई 2020, at 21:37

असहज शब्द / भारत भारद्वाज

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:37, 27 जुलाई 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=भारत भारद्वाज |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

शब्दों की शक्ति से ही नहीं
उसके सम्प्रेषण की अदा से भी मैं परिचित था
लेकिन शब्द नहीं काम आए इस बार

ख़ुद आँख शब्द बन गईं
और वसन्त की उस साँझ को
मैंने अपने सपनों में पूरा का पूरा उतार लिया
सुख, सुख और सुख

अभी-अभी स्पर्श कर मुझे
गुज़र गया वसन्त
लेकिन कहीं भीतर झकझोर गया मुझे
वसन्त ।