भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँच न आए / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:41, 8 सितम्बर 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

31
बहे समीर
मन हुआ अधीर
कहाँ हो तुम ?
32
बाँटती हवा
घर-घर खुशबू
करे न भेद ।
33
मन्द पवन
पुलकित करती
तन व मन ।
34
सिसकी हवा
पहाड़ों से उतरी
रोया है कोई !
35
सोचता मन -
ले तेरी ही खुशबू
बहे पवन ।
36
दो बूँद जल
पावन गंगाजल
तेरे नैन का ।
37
अँजुरी -भरा
बूँद-बूँद जो जल
नैन से ढरा ।
38
निर्मल जल
मिल गया कीच में
खुद खो गया।
39
श्रम का जल
माथे पर उभरे
मोती बनता ।
40
भले दो तन
पावन एक मन
भाई बहन !
41
आँच न आए
जीवन में कभी ज़रा
भाई की दुआ ।
42
प्यार है सच्चा
भाई बहन का ये
टूटे न धागा ।
43
मन को भाए
चाँद बसा है दूर
हाथ न आए ।
44
दु:ख- पहाड़
तो सुख राई भर,
वो भी बिखरे।
45
बन्धन काँटूँ
दूर पहुँच सकूँ
दु:ख भी बाँटू।