भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"आँधी को रोका / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 10: पंक्ति 10:
 
फूत्कार भय त्यागा
 
फूत्कार भय त्यागा
 
नागों को नाथा
 
नागों को नाथा
कैसे हो पाता
+
यह कैसे हो पाता
 
बिना तुम्हारे
 
बिना तुम्हारे
 
हम जी पाते कैसे
 
हम जी पाते कैसे

04:01, 27 जून 2019 के समय का अवतरण


आँधी को रोका
फूत्कार भय त्यागा
नागों को नाथा
यह कैसे हो पाता
बिना तुम्हारे
हम जी पाते कैसे
बिना सहारे !
दंशित नस-नस
चूमके घाव
तुमने मन्त्र पढ़े
विष सदा उतारा