भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँधी / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कटखनी कर्कश हवायें
दे रहीं आवाज़
घर के द्वार
सारे बज रहे हैं।
कोशिशों के बावजूद
बंद हो पाती नहीं
प्रबल झंझावात
के खाकर थपेड़े
खुल रही हैं खिड़कियां
तोड़कर कांच
आँधी घुस रही भीतर
लेकर ढेर सा गुबार
दृष्टि ध्ंाधली हो रही है
भर गया है मुंह सारा
धूल से, किरकिराता
बज रही हैं सीटियां
दे रहा दस्तक कोई, मेरे किवाड़ों पर
मैं आतंकित
कैसे खेलूं द्वार
ये संस्कार मेरे बरजते हैं।