Last modified on 29 सितम्बर 2018, at 10:47

आइए कुर्आन की इस्लाम की बातें करें / अजय अज्ञात

आइए क़ुर्आन की इस्लाम की बातें करें
बाइबिल‚ गुरूग्रंथ साहिब‚ राम की बातें करें

वक़्त न जाया करें बेकार की बातों में हम
आइए इस क़ौम की इख़दाम की बातें करें

अनछुए पहलू को छूना है ज़रूरी अब बहुत
सीधेसीधे आइए हम काम की बातें करें

प्रगति में बाधक बने हैं लोग जो इस देश की
खेंच दें सूली पे क्या इल्ज़ाम की बातें करें

सिरफिरों को रास्ते पर लाएँ हम समझा बुझा
प्यार ही से‚ प्यार के पैग़ाम की बातें करें

देश हो‚ माँबाप हों या हो बड़ा-बूढ़ा कोई
सब की ख़ातिर हम सदा इक्राम की बातें करें

ये तक़ाज़ा है समय का मंज़िलेमक़्सूद को
बिन किए हासिल न हम विश्राम की बातें करें

आइए कुछ देर हमतुम पूर्णिमा की रात में
चाँद‚तारों‚ चर्खे नीलीेफ़ाम की बातें करें