भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आई छाक बुलाये स्याम / सूरदास

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:24, 3 अक्टूबर 2007 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सूरदास }} राग सारंग आई छाक बुलाये स्याम। यह सुनि सख...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


राग सारंग


आई छाक बुलाये स्याम।

यह सुनि सखा सभै जुरि आये, सुबल सुदामा अरु श्रीदाम॥

कमलपत्र दौना पलास के सब आगे धरि परसत जात।

ग्वालमंडली मध्यस्यामधन सब मिलि भोजन रुचिकर खात॥

ऐसौ भूखमांझ इह भौजन पठै दियौ करि जसुमति मात।

सूर, स्याम अपनो नहिं जैंवत, ग्वालन कर तें लै लै खात॥


भावार्थ :- `ऐसी भूख ...मात,' कैसी कड़ाके की भूख लगी थी। जसोदा मैया बड़ी भली है, जो इस भूख में ताजी छाक तैयार करके यहां भेज दी है। `स्याम....खात,' ग्वालबालों के हाथ से छीन छीनकर श्रीकृष्ण खाते हैं अपनी छाक इतनी मीठी नहीं लगती, जितनी कि उन सबके पत्तलों की।


शब्दार्थ :- छाक = वह भोजन, जो खेत पर या चरागाह पर भेज दिया जाता है। ब्रज में यह भोजन महेरी, माखन-रोटी आदि का होता है। सुबल, सुदामा, श्रीदामा = ग्वाल बालों के नाम। पलास =ढाक। परसत जात = परोसे जाते हैं। रुचिकरि =बड़े स्वाद से। करि = बनाकर।