भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आई रेल-आई रेल / रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:02, 1 जून 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ }} {{KKCatBaalKavita}} <poem> धक्का-म…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धक्का-मुक्की रेलम-पेल ।
आई रेल-आई रेल ।।

इंजन चलता सबसे आगे ।
पीछे -पीछे डिब्बे भागे ।।

हार्न बजाता, धुआँ छोड़ता ।
पटरी पर यह तेज़ दौड़ता ।।

जब स्टेशन आ जाता है ।
सिग्नल पर यह रुक जाता है ।।

जब तक बत्ती लाल रहेगी ।
इसकी जीरो चाल रहेगी ।।

हरा रंग जब हो जाता है ।
तब आगे को बढ़ जाता है ।।

बच्चों को यह बहुत सुहाती ।
नानी के घर तक ले जाती ।।

छुक-छुक करती आती रेल ।
आओ मिल कर खेलें खेल ।।

धक्का-मुक्की रेलम-पेल ।
आई रेल-आई रेल ।।