भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ, दीप चलाएँ / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:51, 16 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रकाश मनु |अनुवादक= |संग्रह=बच्च...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खिली-खिली मुसकानें लेकर
आओ, दीप जलाएँ,
फुलझड़ियों के गाने लेकर
आओ, दीप जलाएँ।

एक दीप ऊँची मुँडेर पर
एक दीप देहरी पर,
एक दीप झिलमिल आँगन में
एक गली में बाहर।

दीपक एक जहाँ खेला करता,
है चुनमुन भैया,
दीपक एक जहाँ नन्ही की
होती पाँ-पाँ पैयाँ।

एक दीप अँधिययारी आँखों
का बन जाए तारा,
एक दीप झोंपड़ियों में भी
फैलाए उजियारा।

एक दीप-हाँ, याद आ गया
ठीक द्वार के आगे,
ताकि प्यार ही प्यार रहे बस
सारी नफरत भागे।

किस्से जहाँ सुनाती थी
बूढ़ी काकी हँस-हँसकर,
दीपक एक वहाँ भी रखना
थोड़ा शीश झुकाकर।

एक दीप ऐसा जो सबको
नेह-प्यार सिखलाए
आँधी-तूफानांे में जाने
का साहस बन जाए।

एक दीप इसलिए कि मन में
संशय कभी उगे ना,
एक दीप इसलिए कि भय का
दानव कभी जगे ना।

दीप-दीप से मिलकर होंगी
उजियारे की पाँतें,
दीपों की झिलमिल कतार-सी
होंगी मीठी बातें।

आओ, दीप जलाएँ लेकर
नई सुबह के सपने,
हम सबके हो जाएँ,
धरती के सुख-दुख हों अपने!