भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ खेले खेल / अनुभूति गुप्ता

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:41, 2 मई 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनुभूति गुप्ता |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मम्मी पापा लेकर आये,
रंग-बिरंगी मोटरगाड़ी।
छोटे-छोटे पहियों वाली
कितनी प्यारी मोटरगाड़ी।
खुश होता विहान है कितना,
पाकर अपनी मोटरगाड़ी।
पहिये उसके खूब घुमाता,
गाड़ी आँगन में टहलाता।
लाल रंग की है विहान की,
प्यारी-प्यारी मोटरगाड़ी।