भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आकाश / संजय अलंग

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:38, 21 फ़रवरी 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=संजय अलंग }} {{KKCatBaalKavita}} <poem> देखो कितना स...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


देखो कितना सुन्दर आकाश
चन्दा मामा फिलाता प्रकाश
 
टिमटिम चमकते ढ़ेर से तारे
अजब ग़जब कितने न्यारे
 
दिन होता तो सूरज आता
कितनी रोशनी भर कर लाता

नहीं करेंगें ऐसी भूल
जिससे बढ़े धुआँ और धूल
 
आकाश में बने रहें टिमटिम तारें
सुन्दर-सुन्दर प्यारे-प्यारे