भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

आकासे पाताले लाइन, जल थल अगनी लाइन / मृत्युंजय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:36, 23 जुलाई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मृत्युंजय |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavi...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आकासे पाताले लाइन, जल थल अगनी लाइन,
नहीं लगोगे तो साहेब जी, ठोंकेंगे बड़ फाइन ।

लाइन भगति, लाइनहिं सेवा, लाइन अर्चन-पूजा,
लाइन लगे पाप सब भागे, ऐसा पुण्य न दूजा ।

लाइन जन्मो मरो लाइनहिं, लाइन खाय नहावो,
लाइन ब्रह्म आत्मा लाइन, लाइन बिरहा गावो ।

देसभगति लाइन से पूरित, लाइनमय संसार,
लाइन लगि मिरतुँजे, नँगे हो गए बीच बजार ।