भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आकृतियाँ... / पंखुरी सिन्हा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:16, 2 फ़रवरी 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=पंखुरी सिन्हा |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <poem...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह जाग रही थी,
जैसे बम-विस्फोटों के अलग-अलग स्थानों पर,
या अलग-अलग बमों के फटने से,
एक देश का आज, दूसरे देश का कल,
ख़बरें शुरू हो रही थीं,
देशों के नाम से,
या नागरिकताओं के नाम से,

नागरिकताओं की हस्ती को लेकर लड़ाई थी,
भाषाओं की हस्ती को लेकर भी,
सबकुछ के वर्गीकरण का एक नया खेल था,
लोगों के ड्राइंग-रूम्स में अजीब किस्म की बहसें थीं,
कि किस नागरिकता के लोग, कैसे जी सकते थे?

फिर ये बातें धर्म तक पहुँचती थीं,
और मामला संगीन होता था,
जाति-जनजाति तक पहुँचते-पहुँचते,
और भी संगीन,

किसको कितनी आज़ादी थी, कौन तय कर रहा था ?
कैसी छूट थी किसे, कहाँ तक पहुँचने के अवसर किन्हें ?