भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

आगे आगे शर फैलाता जाता हूँ / ग़ुलाम मुर्तज़ा राही

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 06:55, 6 सितम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ग़ुलाम मुर्तज़ा राही }} {{KKCatGhazal}} <poem> आ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आगे आगे शर फैलाता जाता हूँ
पीछे पीछे अपनी ख़ैर मनाता हूँ

पत्थर की सूरत बे-हिस हो जाता हूँ
कैसी कैसी चोंटे सहता रहता हूँ

आख़िर अब तक क्यूँ तुम्हें आया मैं नज़र
जाने कहाँ कहाँ तू देखा जाता हूँ

साँसों के आने जाने से लगता है
इक पल जीता हूँ तो इक पल मरता हूँ

दरिया बालू मोरम ढो कर लाता है
मैं उस का सब माल आड़ा ले आता हूँ

अब तो मैं हाथों में पत्थर ले कर अभी
आईने का सामना करते डरता हूँ