भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आजु भलो बनि आयो लाल / कमलानंद सिंह 'साहित्य सरोज'

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:38, 23 दिसम्बर 2011 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार = कमलानंद सिंह 'साहित्य सरोज' }} <poem> आज...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आजु भलो बनि आयो लाल ॥
अंजन अधर पीक पलकन में, सोहत जावक सुन्दर भाल ।
बिनु गुन माल विराजत हिय में, अलसाने दुहु नैन विशाल ॥
मृगमद लसत भुजा में नीकी, चुम्बन चिन्ह चारु बिच गाल ।
चित ‘सरोज’ लखि छकित भये हैं, तेरी यह मतवाली चाल ॥