भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज की लड़की / पूनम गुजरानी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:01, 10 दिसम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=पूनम गुजरानी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मां
चिङिया कहकर
मत बुलाओ मुझे
मैं जानती हूँ
कल इस आंगन से
उङा दोगी
उस आंगन में मुझे
पर मैं
रहना चहाती हूँ
तुम्हारी आंखों में...
उकेरना चहाती हूँ
सपनों का इन्द्रधनुष
अनंत आकाश में।

मां
मुझे गाय कहकर
मत बुलाओ
मैं जानती हूँ
बांध देंगे पिता मुझे
कल किसी ओर खूंटे से
पर मैं बंधना चहाती हूँ
पिता की जिजीविषा ...
बनना चाहती हूँ
उनका अभिमान।

मां मुझे
पराया धन भी मत कहो
मैं किसी की जेब का
सिक्का नहीं हूँ
मैं तकदीर हूँ...
तलाश लूंगी
अपनी मंजिल
अपने नन्हे मगर
मजबूत कदमों से।

मां मैं
कठपुतली नहीं हूँ
जो नाचती रहे
धागों के सहारे...
नहीं हूँ शतरंज की गोटी
कि खेल जाए
कोई भी अपनी मर्जी से।

मां मैं
किरणों का काफिला हूँ
जिसके बिना
इस जगत में
जीवन का अस्तित्व नहीं।