भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज भी है शेष है / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:46, 17 अगस्त 2019 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=कविता भट्ट |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem>...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसकी चपल आँखों की गति,
मेरे लिए प्रश्न है आज भी।
 
ध्यान नहीं, मुझे देखना दावा था,
 या उसका वचन केवल छलावा था।
मेरे थे अपने ही भोलेपन,
वह किसी और में था मगन।
 
किन्तु आज भी है शेष है,
वही निष्ठा- प्रेम विशेष है।
 
टूटेगा कभी तो उसका भरम,
विजयी होगा मेरा ही धरम।
 
मेरे भीतर भी ईश्वर जीवित है,
यह मिथ्या नहीं बल्कि सुनिश्चित है।
 
शत्रुता अच्छी मित्रों ने निभाई
कटार लिये खड़ी मेरी परछाई।
-0-