भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आपको कुछ याद नहीं रहता / सुषमा गुप्ता

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:30, 28 मई 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसने कहा
तुम्हारा न होना अच्छा है
टीस चबक मारती रहती है
और उससे बचने की जद्दोजहद
मुझे काम में उलझाए रखती है..

उसने ये भी कहा
तुम लौट कर मत आना कभी
पर सुनो!
कभी-कभी मिलना
दर्द का रंग बदलता रहे तो
हर्ज़ ही क्या है ...

उसने ये तक कह डाला
मुझे आदत मत बना लेना
मुझे खुद से बातें करना
ज़्यादा पसंद है
तुमसे शायद न कर पाऊँ
उतनी....

उसने ये नहीं कहा बस
सुनो!!
अब जा रहा हूँ
बस यूँ ही निकल गया
धीरे-धीरे
चुपचाप ...
प्रेम और वक्त की आदतें
एक सी हैं ।