भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आम रसीले भोले-भाले! / रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:34, 14 जून 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ }} {{KKCatBaalKavita}} <poem> पकने को …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पकने को तैयार खड़े हैं!
शाखाओं पर लदे पड़े हैं!!

झूमर बनकर लटक रहे हैं!
झूम-झूम कर मटक रहे हैं!!

कोई दशहरी कोई लँगड़ा!
फजरी कितना मोटा तगड़ा!!

बम्बइया की शान निराली!
तोतापरी बहुत मतवाली!!

कुछ गुलाब की खुशबू वाले!
आम रसीले भोले-भाले!!