Last modified on 6 सितम्बर 2016, at 04:45

आयो महीनो भादों को / गढ़वाली

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आयो महीनो भादों को।
मन समझादूं[1] बौत[2]
या मिली जादों स्वामी जी
या प्रभु देदो मौत।

शब्दार्थ
  1. समझाती
  2. बहुत