भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आसपास कोई नहीं था / योशियुकी रिए

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:21, 22 अक्टूबर 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKAnooditRachna |रचनाकार=योशियुकी रिए }} [[Category:जापानी भाष...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: योशियुकी रिए  » आसपास कोई नहीं था

बिजली चमकी थी
अचानक आकाश में
मैं घास काट रही थी

अचानक कौंध उठी थी
आकाश में बिजली
मैं हँसिया लिए खड़ी थी

सब घर लौट गए थे
हवा चल रही थी भयानक
लट्टू-सा घूमने लगा था चक्रवात

उस हरे मैदान में
चुप-चुप झुकी हुई थी
फूट रही थी ज़मीन से रस भरी घास

मूल जापानी से अनुवाद : रोली जैन