भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इक भिखारी से भिखारी आके क्या ले जायेगा / नज़ीर बनारसी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:18, 16 अक्टूबर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नज़ीर बनारसी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक भिखारी से भिखारी आके क्या ले जायेगा
वह भी तोहमसे खुदा ही का दिया ले जायेगा

यात्री लाखों मगर मंजिल पे पहुँचेगा वही
साथ अपने जो फकीरों की दुआ ले जायेगा

है जो माखनचोर, वह नटखट है, हृदयचोर भी
इक नजर में लूट कर पूरी सभा ले जायेगा

अपने दर पर तूने दी है जिसको सोने की जगह
वह तिरी आँखों की नींदें तक उड़ा ले जायेगा

हद से आगे बढ़ के मत दो दान हो या दक्षिणा
वरना तुमको वक्त का रावण उठा ले जायेगा

इक बहेलिया तक का है चहचहाते पेड़ को
पंछियो, बचना यह कितनों को उड़ा ले जायेगा

बाढ़ से दरिया किनारे रात मत सोना ’नजीर’
वरना सोते में तुम्हें तूफाँ उठा ले जायेगा

शब्दार्थ