भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इच्छाएँ / कंस्तांतिन कवाफ़ी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:39, 2 जुलाई 2012 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे कि—
         बे-वक़्त मर गए लोगों के ख़ूबसूरत जिस्म,
किसी शानदार मक़बरे में उदासी के बीच क़ैद
         सिरहाने गुलाब और पायँताने चँबेली के फूल,
वैसे ही हैं वे इच्छाएँ, जो पूरी हुए बिना बीत गईं,
         जिनमें से किसी को भी
चाहत-भरी एक रात तक मयस्सर न हुई,
         या उसके बाद की ख़ुशनुमा सुबह ही कोई ।
 
अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल