भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इतना भी आसान नहीं सबकुछ / गीताश्री

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:39, 24 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गीताश्री |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इतना भी आसान नहीं सबकुछ,
उठती रहें आपकी ओर उँगलियाँ और सलाखें और मोटी होती जाएँ,
यातना-शिविर में बदल जाएँ मकान,
कि दरो-दीवार पर उगी चीख़ों को सहेज कर हमने धर लिया है,
ना भूलेगी कभी बर्बर बूटो की आहटें,
ना दमनकारी चाहतें,
ना ही भूखे का निवाला बनती देह का क्रन्दन,
अन्धेरे में चमकती है सिर्फ दहशत भरी आँखें,
दूर-दूर तलक कहीं नहीं टिमटिमाती रौशनी,
उम्मीद के दीए तो कबके ताख पर रखकर बुझा दिए जाते हैं,
प्यार आया था कभी फुरसत से, दबे पाँव निकल गया अपनी राह,
बेआवाज़ कि भनक तक न लगी उसके जाने की,
हम तो दुर्भाग्य की चादर लपेटे पड़े हैं चारपाई पर...।