भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"इधर-उधर / दीनदयाल शर्मा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दीनदयाल शर्मा }} {{KKCatBaalKavita}} <poem> इधर-उधर क्या देख रहो ह…)
 
 
पंक्ति 10: पंक्ति 10:
 
बात-बात पर झगड़ रहे हो।
 
बात-बात पर झगड़ रहे हो।
 
आओ मिलकर काम करें हम।।
 
आओ मिलकर काम करें हम।।
 
  
 
झगड़ा बढिय़ा बात नहीं है।
 
झगड़ा बढिय़ा बात नहीं है।
 
आओ मिलकर काम करें हम।।
 
आओ मिलकर काम करें हम।।
 
  
 
काम से कभी न कतराएँ हम।
 
काम से कभी न कतराएँ हम।
 
आओ मिलकर काम करें हम।।
 
आओ मिलकर काम करें हम।।
 
  
 
काम होगा,  नाम भी होगा।
 
काम होगा,  नाम भी होगा।
 
आओ मिलकर काम करें हम।।
 
आओ मिलकर काम करें हम।।
 
</poem>
 
</poem>

20:40, 24 जून 2010 के समय का अवतरण

इधर-उधर क्या देख रहो हो।
आओ मिलकर काम करें हम।।

बात-बात पर झगड़ रहे हो।
आओ मिलकर काम करें हम।।

झगड़ा बढिय़ा बात नहीं है।
आओ मिलकर काम करें हम।।

काम से कभी न कतराएँ हम।
आओ मिलकर काम करें हम।।

काम होगा, नाम भी होगा।
आओ मिलकर काम करें हम।।