भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन बच्चियों की वल्दियत क्या है? / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:24, 8 दिसम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रंजना जायसवाल |अनुवादक= |संग्रह=ज...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आखिर इन बच्चियों की बल्दियत क्या है?
जो रेलवे प्लेटफार्म के किन्हीं अँधेरे कोनों में
पैदा होती हैं
और किशोर होने से पहले ही
औरत बना दी जाती हैं।
जो दिन-भर कचरा बीनती हैं
और शाम को नुक्कड़ों...चौराहों के
अँधेरे कोनों में ग्राहकों का
इन्तजार करती हैं।
जो पूरी तरह युवा होने से पहले ही
अपनी माँ की तरह
यतीम औलादें पैदा करती हैं।
जो समय से पहले ही असाध्य रोगों से
ग्रस्त हो एड़ियाँ रगड़ कर मर जाती हैं।
कोई तो बता दे मुझे
इन बच्चियों की बल्दियत क्या है?