Last modified on 24 अगस्त 2020, at 10:45

इस तरह पूरी हुई आधी क़सम / विक्रम शर्मा

इस तरह पूरी हुई आधी कसम
हमने रख ली आपकी खायी कसम

हो गयी ज़ाया दलीले फिर सभी
फिर से उसने कह दिया 'तेरी कसम'

सच हमेशा झूठ ही समझा गया
और सच समझी गयी झूठी कसम

बेअसर है भूल जाने की दुआ
यूँ करो दे दो मुझे अपनी कसम

उलझनें उनको भी थी इज़हार में
मुझको भी थी रोकती कोई कसम