भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं / सुशान्त सुप्रिय

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:24, 7 जून 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुशान्त सुप्रिय |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देह में फाँस-सा यह समय है
जब अपनी परछाईं भी संदिग्ध है
'हमें बचाओ, हम त्रस्त हैं'--
घबराए हुए लोग चिल्ला रहे हैं
किंतु दूसरी ओर केवल एक
रेकाॅर्डेड आवाज़ उपलब्ध है--
'इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं'

न कोई खिड़की, न दरवाज़ा, न रोशनदान है
काल-कोठरी-सा भयावह वर्तमान है
'हमें बचाओ, हम त्रस्त हैं'--
डरे हुए लोग छटपटा रहे हैं
किंतु दूसरी ओर केवल एक
रेकाॅर्डेड आवाज़ उपलब्ध है--
'इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं'

बच्चे गा रहे वयस्कों के गीत हैं
इस वनैले-तंत्र में मासूमियत अतीत है
बुद्ध बामियान की हिंसा से व्यथित हैं
राम छद्म-भक्तों से त्रस्त हैं
समकालीन अँधेरें में
प्रार्थनाएँ भी अशक्त हैं...
इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं