भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

इ लोकतंत्र है? / मनोज झा

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:32, 23 जुलाई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मनोज झा |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <po...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इ लोकतंत्र है,
 अजी इ शोकतंत्र है।
 फी साल बजट मेँ है घाटा,
 महँगा भेलो चावल-आटा।
 मुद्रास्फिति ऐसन बढलै,
 डालर लम्बा रुपया नाटा॥
 इ लोकतंत्र है,
 अजी इ जोँकतंत्र है।
 हर्षद ऐसन है जोँक जहाँ,
घोँटाला पर नै रोक जहाँ।
 मनमानी धन के लूट कराके,
 पाँच साल पर भोट जहाँ॥
 इ लोकतंत्र है,
 अजी इ लूट तंत्र है।
 मानवाधिकार के रोज बात,
 मानव कर्त्तव्य है बोल मात्र।
 नेता बढला नीति घटलो
 यहाँ राम नाम के साथ साथ॥
 इ लोकतंत्र है,
 अजी इ लोभतंत्र है।
 शिक्षा घटलै, घटलै शिक्षण,
 बदली मेँ बढ़लै आरक्षण।
 जे देश के युवा बेकार रहल,
 ओकर भविष्य होतै कैसन?
 इ लोकतंत्र है,
 अजी इ शोकतंत्र है।