भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उजियाले दिन / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:29, 22 सितम्बर 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश तैलंग |संग्रह=उड़न खटोले आ / रमेश तैलंग }} {{KKCa…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छोटे पाँवों वाले दिन ।
सर्द हवाओं वाले दिन ।

कॉफ़ी प्यालों वाले दिन ।
गर्म दुशालों वाले दिन ।

फ़्रीजर में ज्यों डाले दिन ।
खुले बदन पर भाले दिन ।

कुहरा ओढ़े काले दिन ।
कहाँ गए उजियाले दिन ?