भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उठु उठु सखि सब, लावा छिरिआऊ हे / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:43, 28 अप्रैल 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKCatAngikaRachna}} <poem> प्रस्तुत गी...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

प्रस्तुत गीत में दुलहा और दुलहन को वेदिका के चारों ओर घूमने, दोनों की चादर और आँचल के छोर को मिलाकर गेंठ जोड़ने, लावा छींटने तथा मंगल गाने का उल्लेख है।

उठु उठु सखि सब, लावा[1] छिरिआऊ[2] हे।
दुलहा दुलहिनियाँ के, बेदिया[3] घुमाऊ हे॥1॥
अँचरा चदरिया में, गेठिया जोड़ाऊ हे।
उठु उठु सखि सब, मंगल गाऊ हे॥2॥
घूमि घूमि सखि सब, लावा छिरिआऊ हे।
दुलहिन के हाथ दिओन[4], सोना के सुपतिया हे॥3॥
भरि भरि सुपति में, लावा सुमंगल हे।
उठु उठु सखि सब, मंगल गाऊ हे॥4॥
घूमि घूमि सखि सब, लावा छिरिआऊ हे।
आगु दुलहिन पिछु दुलहा, मनन मुसकाऊ हे।
लावा छिरिआऊ सखि, लावा छिरिआऊ हे॥5॥

शब्दार्थ
  1. धान को भूनकर तैयार किया गया भूजा; लाजा
  2. छिड़को
  3. वेदिका
  4. दीजिए