भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उड़ा कबूतर / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:20, 22 सितम्बर 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश तैलंग |संग्रह=उड़न खटोले आ / रमेश तैलंग }} {{KKCa…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

में...में बकरी मटक-मटक
चली तो रस्ता गई भटक ।
ब-ब-बचाओ ! गले में उसके-
बोली निकली अटक-अटक ।

००

टिक-टिक घोड़ा टिम्मक-टिम ।
चलता डिम्मक-डिम्मक डिम ।
जिसने छोड़ी ज़रा लगाम ।
धरती पर आ गिरा धड़ाम ।

००

उड़ा कबूतर, ऊपर-ऊपर !
कित्ते ऊपर ? इत्ते ऊपर ।
नीचे कब तक आएगा ?
उड़कर जब थक जाएगा।