भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उदास आँखें / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:08, 13 सितम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हज़ारों ख़्वाब
माना पूरे न होंगे
दो-चार तो होंगे ही,
जीना जो चाहो
सपनों को कभी यूँ
मरने नहीं देना ।
32
दीवारें खड़ीं
बनाके घेरा हमें
कि मिलने न देंगे ,
बचे हैं पास
ये सपने सलोने
पा जाएँगे तुमको
33
उदास आँखें
नम हैं झरोखे भी
बरसों से वे बैठे,
बनके पाखी
कुछ गुनगुनाऊँ
आज मुस्कानें बाँटूँ ।
34
है चाह मेरी
वह नमी पी डालूँ
दिल की प्यास बुझे,
उड़ान भरें
वे मुक्त गगन में
सब बन्धन काटूँ
35
कुछ तो खता
तुमने भी की होगी
जाने या अनजाने,
लौटते न यूँ
बिना दुत्कारे कभी
द्वारे से कभी जोगी
36
‘मैं कहाँ रहूँगा ?’
इतना ही था पूछा
इक दिन उनसे
हँसके बोले-
‘जाना न कहीं तुम
दिल में रहो मेरे।’
37
मै मज़बूर
कि सिर झुकता है
तेरे दर पे आके,
तू ही बतादे
किस मुँह से भला
मन्दिर अब जाऊँ ।
38
जग जो रूठा
मैं क्या कर सकता
सोचो ये सभी बातें
तुम जो रूठे
मेरा यह जीवन
काँच-सा बिखरेगा ।
39
सच बोलके
बिना मेहनत ही
बैरी बहुत बने,
झूठे वचन
सुन खुश हो गए
वे ही सब दो पल में ।
40
जो भी सपने
फ़सलों -से उगे थे
निर्दय तोड़ गए ,
सिद्धार्थ जैसे
यशोधरा-सी धरा
बादल छोड़ गए ।