भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"उदास रहता है बैठा शराब पीता है / मुनव्वर राना" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मुनव्वर राना |संग्रह=फिर कबीर / मुनव्वर राना }} {{KKCa…)
 
 
पंक्ति 8: पंक्ति 8:
  
 
उदास रहता है बैठा शराब पीता है
 
उदास रहता है बैठा शराब पीता है
वो जबभी होता है तन्हा शराब पीता है
+
वो जब भी होता है तन्हा<ref>अकेला</ref> शराब पीता है
  
तुम्हारी आँखों की तौहीन है ज़रा सोचो
+
तुम्हारी आँखों की तौहीन<ref>अपमान</ref>  है ज़रा सोचो
 
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है
 
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है
  

14:12, 23 नवम्बर 2009 के समय का अवतरण


उदास रहता है बैठा शराब पीता है
वो जब भी होता है तन्हा<ref>अकेला</ref> शराब पीता है

तुम्हारी आँखों की तौहीन<ref>अपमान</ref> है ज़रा सोचो
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है

वो मेरे होंठों पे रखता है फूल-सी आँखें
ख़बर उड़ाओ कि ‘राना’ शराब पीता है

शब्दार्थ
<references/>