भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उफ़ क्या मज़ा मिला सितम-ए-रोज़-गार में / इक़बाल सुहैल

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:09, 15 मई 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=इक़बाल सुहैल }} {{KKCatGhazal}} <poem> उफ़ क्या म...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उफ़ क्या मज़ा मिला सितम-ए-रोज़-गार में
क्या तुम छुपे थे पर्दा-ए-लैल-ओ-नहार में

सौ सजदे एक लग़्ज़िश-ए-मस्ताना-वार में
अल्लाह क्या अदा है तेरे बादा-ख़्वार में

रोकूँ तो मौज-ए-ग़म को दिल-ए-बे-क़रार में
साग़र छलक न जाए कफ़-ए-राशा-दार में

किस से हो फिर उम्मीद के तार-ए-नज़र मेरा
ख़ुद जा के मिल गया सफ़-ए-मिज़गान-ए-यार में

ख़ुद हुस्न बे-नियाज़ नहीं फ़ैज़-ए-इश्क़ से
ख़ू मेरे दिल की है निगह-ए-बे-क़रार में

वो मस्त-ए-नाज़ हुस्न मैं सरशार-ए-आरज़ू
वो इख़्तियार में हैं न मैं इख़्तियार में

आशोब-ए-इज़्तिराब में खटका जो है तो ये
ग़म तेरा मिल न जाए ग़म-ए-रोज़-गार में

बाक़ी रहा न कोई गिला वक़्त-ए-वापसीं
क्या कह गए वो इक निगह-ए-शर्म-सार में

इक मश्क़-ए-इज़्तिराब का रक्खा है नाम इश्क़
उफ़ बे-कसी के वो भी नहीं इख़्तियार में

बज़्म-ए-सुख़न में आग लगा दी 'सुहैल' ने
क्या बिजलियाँ थीं ख़ामा-ए-जादू-निगार में