भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"उम्मीद ला-दवा / गिरिराज किराडू" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गिरिराज किराडू }} {{KKCatKavita‎}} <poem> वि होने से थक गया हूँ …)
 
 
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
{{KKCatKavita‎}}
 
{{KKCatKavita‎}}
 
<poem>
 
<poem>
वि होने से थक गया हूँ
+
कवि होने से थक गया हूँ
 
होने की इस अजब आदत से थक गया हूँ
 
होने की इस अजब आदत से थक गया हूँ
 
कवि होने की क़ीमत है हर चीज़ से बड़ी है वो कविता
 
कवि होने की क़ीमत है हर चीज़ से बड़ी है वो कविता

11:56, 27 अप्रैल 2011 के समय का अवतरण

कवि होने से थक गया हूँ
होने की इस अजब आदत से थक गया हूँ
कवि होने की क़ीमत है हर चीज़ से बड़ी है वो कविता
जिसमें लिखते हैं हम उसे
लिखकर सब कुछ से बिछड़ने से थक गया हूँ
अपना मरना बार-बार लिखकर मरने तक से बिछड़ गया हूँ
हमारे बाद भी रहती है कविता
इस भुतहा उम्मीद से थक गया हूँ ।

जनाब नंदकिशोर आचार्य और जनाब अशोक वाजपेयी की एक-एक कविता के नाम जिनसे अपनी गुस्ताख़ नाइत्तेफ़ाकी और इश्क़ के चलते यह कविता मुमकिन हुई है