भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसकी आँखें / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:12, 26 अगस्त 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=स्वाति मेलकानी |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खालीपन से ठसाठस भरी
उसकी आँखें
जैसे फर्श पर बिखरे
हजारों सफेद पन्नों पर
लिखे सवाल
और
पतझड़ में झड़ते
काले-भूरे पन्नों पर
लिखे
आधे-आधे जवाब
मिल गये हों साथ।
और
इस सबके बीच
वह खुद
फर्श सी लेटी है।
बदन पर
सिर्फ दो आँखें
खुली और खामोश।
नींद और सपने
सभी सामान लेकर
जा चुके हैं।
फर्श पर पड़ती दरारें
चीर जाती हैं
जहाँ बुनियाद को भी
यह इमारत हिल रही है
और
इस सब के बीच
वह खुद
फर्श सी लेटी है।