भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसे पहचानो / अनिरुद्ध प्रसाद विमल

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:18, 5 अक्टूबर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनिरुद्ध प्रसाद विमल |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन है वह आदमी
जों हमें आश्वासनों का अमृत पिलाकर
अब तक भरता रहा है
हमारे पेट को,
उसे पहचानों
दोस्त !
उसे पहचानना ही होगा।
वह अकेला नचा रहा है
हम तमाम लोगों को,
और हम हैं
कि नाच रहे हैं
मेरे दोस्त !
कब पहचानोगे उसे ?
कब करोगे बंद नाचना ?
हम तुम सभी
थक भी तो गये हैं
उम्मीदों के घुँघरू बाँधकर
नाचते-नाचते।