भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस पार-2 / उषारानी राव

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:04, 24 फ़रवरी 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उषारानी राव |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तस्वीरें आयीं हैं
पोते-पोतियों की
सुबह की डाक से
साल छः महीने में
पहुँच ही जाती हैं !
पर
वे नहीं आते
मन कातर हो उठा
दरवाज़े को अधखुला कर
खड़ी रही
सड़क के उस पार से आ रही
थी
हरसिंगार की महक !
धूल,धूआँ सबको दबाकर
दूर से
तस्वीरों की तरह उस पार से
तस्वीर न होगा तो न होगा
ह्दय !